PM Modi के भाषण में त्योहारों के जिक्र पर क्यों छिड़ा विवाद?

गरीबों के लिए बड़े ऐलान, मोदी का पूरा भाषण UNCUT

चर्चित विडियो

  • हद रोमांटिक है सुभी शर्मा पवन सिंह का यह वीडियो, आपने देखा?हद रोमांटिक है सुभी शर्मा पवन सिंह ..
  • खेसारी लाल मोनालिसा के कॉमिडी वीडियो को देख हंसी नहीं रोक पाएंगे आप!खेसारी लाल मोनालिसा के कॉमिडी वीडिय..
  • 'निरहुआ के चक्कर में' परेशान आम्रपाली दुबे, आग लगाता भोजपुरी गाना'निरहुआ के चक्कर में' परेशान आम्रपा..

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश के नाम संबोधन दिया। इस दौरान उन्होंने आने वाले महीनों में देश के अलग-अलग हिस्सों में मनाए जाने वाले कई त्योहारों का जिक्र करते हुए नवंबर तक PM गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार का ऐलान किया। हालांकि, पीएम के भाषण के बाद कई लोगों ने इस बात पर आलोचना शुरू कर दी कि पीएम मोदी ने सिर्फ कुछ क्षेत्रों और धर्मों के त्योहारों का जिक्र किया और बाकी को भूल गए। आइए जानते हैं कि पीएम ने अपने भाषण में कहा क्या था।
लेटेस्ट कॉमेंटवीरता की बातें ,बहादुरी की बातें, चाइना के खिलाफ कुछ बोलने की बातें कहां गया यह सब???rahul gaurसभी कॉमेंट्स देखैंअपना कॉमेंट लिखेंदेश के अलग-अलग कोनों में मनाए जाते हैं त्योहार
पीएम मोदी ने कहा कि जुलाई से धीरे-धीरे त्योहारों का माहौल बनने लगता है। इसके बाद उन्होंने जिन त्योहारों का जिक्र किया उनमें सबसे पहला था गुरु पूर्णिमा जो यूं तो हिंदू मान्यताओं के साथ-साथ गौतम बुद्ध से जुड़े होने के कारण बौद्ध और चतुर्मास की शुरुआत के कारण जैन धर्म से संबंधित है लेकिन शिक्षकों के साथ जुड़े होने के कारण लगभग सभी धर्मों और क्षेत्रों में मनाया जाता है। इसके अलावा उन्होंने जिन त्योहारों का जिक्र किया उनमें से रक्षा बंधन, गणेश चतुर्थी (मुख्यत: दक्षिणपश्चिम), दुर्गा पूजा (पश्चिम बंगाल), दशहरा और दिवाली भी देश के लगभग हर कोने में मनाए जाते हैं।
पीएम मोदी के भाषण पर ओवैसी का धार्मिक कार्ड, कहा- त्योहारों के बीच बकरीद भूल गए
ओवैसी ने बकरीद पर घेरा, 'भूल गए पीएम'
इसके अलावा उन्होंने छठ, सावन और नवरात्रि का जिक्र किया जो मुख्यत: उत्तर भारत में, ओणम दक्षिण भारत में और बिहू पूर्वोत्तर में मनाए जाते हैं। पीएम के भाषण के बाद ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने इस बात पर आपत्ति जताई कि पीएम ने बकरीद का जिक्र नहीं किया। बता दें कि बकरीद के 31 जुलाई-1 अगस्त को होने की उम्मीद है। वहीं, पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदबंरम के बेटे और तमिलनाडु के शिवगंगा से सांसद कार्ति चिदंबरम ने भी सवाल किया कि पीएम दक्षिण भारत को क्यों भूल गए। हालांकि, कार्ति ने ओणम के जिक्र को नजरअंदाज कर दिया।
पीएम मोदी ने किया त्योहारों का जिक्र, कार्ति चिदंबरम ने पूछा- साउथ के त्योहार कहां हैं?
इसलिए किया था त्योहारों का जिक्र
पीएम ने अपने भाषण में त्योहारों का जिक्र करते हुए कहा कि त्योहारों का समय जरूरतें भी बढ़ाता है और खर्च भी बढ़ाता है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ऐलान किया गया कि पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार नवंबर के आखिर तक किया जाएगा। इसके तहत 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली योजना अबजुलाई से लेकर नवंबर तक लागू रहेगी।
PM Modi ने अपनी स्पीच में क्यों किया इस देश के प्रधानमंत्री का जिक्र?
पीएम ने कहा कि सरकार द्वारा इन 5 महीनों के लिए 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को हर महीने परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त मुहैया कराया जाएगा। हर परिवार को हर महीने 1 किलो चना मुफ्त दिया जाएगा। इस विस्तार में 90 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च होंगे और पिछले तीन महीने का खर्च जोड़ने पर यह 1.5 लाख करोड़ रुपये हो जाता है।
मोदी का ऐलान, 80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मुफ्त अनाजमोदी का ऐलान, 80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मुफ्त अनाजकोरोना काल में छठी बार देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गरीबों और जरूरतमंदों के लिए बड़ा ऐलान किया। उन्होंने घोषणा की है कि मुफ्त अनाज देने की योजना अब अगले पांच महीनों तक जारी रहेगी। पीएम ने कहा कि त्योहारों का मौसम आ रहा है, जरूरतें और खर्चें बढ़ेंगे, ऐसे में सरकार ने फैसला किया है कि 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली योजना जुलाई, अगस्त, सितंबर, अक्टूबर, नवंबर में भी लागू रहेगी। सरकार द्वारा इन पांच महीनों के लिए 80 करोड़ से ज्यादा भाइयों-बहनों को 5 किलो गेहूं या 5 किलो चावल मुफ्त दिया जाएगा। साथ ही प्रत्येक परिवार को एक किलो चना भी मुफ्त दिया जाएगा।

Your in currently Olaa.in » हिन्दी में समाचार - Hindi News - Breaking News In Hindi » PM Modi के भाषण में त्योहारों के जिक्र पर क्यों छिड़ा विवाद?

Top Trending Post